वन्यजीव गणना जारी करने से बच रहा वनविभाग:पिछले साल पैंथर के आंकड़े नहीं बताए, अब वन्य जीवों की गिनती पर खामोशी

 

वन विभाग जिले में वन्य जीवाें की गिनती बताने से अब तक परहेज कर रहा है। यह आंकड़े क्याें छुपाए जा रहे हैं, इसका अब तक काेई बड़ा कारण भी सामने नहीं आया है। वन विभाग के अधिकारी आंकड़ाें पर एक ही जवाब देते हैं कि जयपुर से जारी हाेंगे। लेकिन कब हाेंगे? कैसे हाेंगे? अब तक क्याें नहीं हुए? इस पर खामाेशी का पर्दा डाल दिया गया है। आंकड़ाें काे छुपाने से वन विभाग का क्या फायदा हाेगा? इसे लेकर भी अब चर्चाएं शुरू हाे गई है, क्याेंकि अजमेर वन मंडल के अधिकारियाें ने पिछले साल की गणना में पैंथर के आंकड़े ही नहीं बताए थे।

वन विभाग ने 5 और 6 जून 2020 काे 24 घंटे की वन्यजीव गणना कराई थी। इस दाैरान जिले में काैन से वन्यजीव नजर आए? उनकी कितनी तादाद है? इसका खुलासा अब तक नहीं किया गया है। विभाग के अधिकारियाें ने यह गणना के बाद आंकड़े जारी नहीं किए। जबकि पिछले साल आंकड़े जारी किए गए थे।

अधिकारियाें का कहना था कि जाे भी आंकड़ें हैं वह जयपुर से एक साथ पूरे प्रदेश के जारी किए जाएंगे। ऐसा क्याें पूछने पर अधिकारियाें ने जयपुर से निर्देश की बात कही। लेकिन अब तक जयपुर से भी किसी जिले या वन मंडल क्षेत्र के आंकड़े जारी नहीं किए गए हैं।

5 जून काे हुई गणना में पैंथर भी शामिल किए गए थे

आंकड़ाें काे जारी करने में किस बात का डर है इसे लेकर भी अधिकारियाें ने खामाेशी ओढ़ रखी है। खास बात यह है कि पिछले साल अजमेर वन मंडल ने लाेकल स्तर पर ही आंकड़े जारी किए थे। अन्य वन्यजीवाें की तरह पैंथर की आंकड़े भी पिछले साल जारी किए थे, लेकिन जारी करने के कुछ देर बाद ही इसे वापस ले लिया था।

तब अधिकारियाें का कहना था कि गिनती में कुछ गड़बड़ है, बाद में पैंथर की गणना अलग से कराई जाएगी। लेकिन पूरा साल गुजरने के बाद भी पैंथर की गणना नहीं कराई गई। 5 जून काे हुई गणना में पैंथर शामिल किए गए, लेकिन अब तक किसी भी वन्यजीवाें का गिनती नहीं बताई गई।
40 से ज्यादा पैंथर हैं जिले में
सूत्राें के मुताबिक इस बार की गणना में जिले में 40 से ज्यादा पैंथर हाेने की जानकारी मिली हैं। यह पैंथर अजमेर, ब्यावर, नसीराबाद, पुष्कर और सरवाड़ रेंज में मूवमेंट करते पाए गए थे। इनमें से अजमेर में 2, ब्यावर में 25, नसीराबाद में 10 और पुष्कर में 2 पैंथर्स की मूवमेंट दर्ज की गई थी। लेकिन अधिकृत ताैर पर अब तक यह आंकड़े जारी नहीं किए गए हैं।

इनका कहना है

  • कुछ ही समय पहले ही अजमेर में ज्वाइन किया है, फिलहाल मुझे यह जानकारी नहीं है कि आंकड़े जारी हुए या नहीं? मैं अवकाश पर अजमेर से बाहर आया हूं। - सुनील कुमार, डीएफओ अजमेर।

जल्द जारी करेंगे

  • आंकड़े जल्द जारी किए जाएंगे। काेराेना के कारण सारी व्यवस्थाएं प्रभावित हुई हैं। मंडल स्तर के आंकड़े भी स्थानीय स्तर पर मिल जाएंगे। - अरविंदम ताेमर, चीफ कंजर्वेटर ऑफ फाॅरेस्ट (चीफ वार्डन) वाइल्ड लाइफ जयपुर।

From around the web