दुर्लभ मामला:देश में पहली बार महाराष्ट्र के पालघर में मिली दोमुंही शार्क मछली, तस्वीरें इंटरनेट पर हो रहीं हैं वायरल.

 
  • कुछ साल पहले मैक्सिको के शोधकर्ताओं ने दो सिर वाली शार्क की खोज की थी
  • शार्क मछली धरती पर सबसे ज्यादा जीने वाले जीवों में से एक है

महाराष्ट्र के पालघर जिले के सतपति गांव में दो सिर वाली छोटी शार्क मछली मिली है। इस मछली की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। मामले की जानकारी मिलने के बाद मत्स्य विभाग की टीम ने इसे पकड़ने वाले मछुआरे से संपर्क किया है।

जानकारी के मुताबिक, सतपति गांव के रहने वाले नितिन पाटिल ने इस दो सिर वाली शार्क को समुद्र से पकड़ा है। पिछले गुरुवार को वे रोज की तरह मछली पकड़ने समुद्र में गए थे। उनके जाल में दो सिर की बेबी शार्क फंसी। इस बेबी शार्क की लंबाई सिर्फ 6 इंच बताई जा रही है।

जिंदा होने के कारण मछुआरे ने इसे वापस समुद्र में छोड़ दिया।

जिंदा होने के कारण मछुआरे ने इसे वापस समुद्र में छोड़ दिया।

उमेश पालेकर ने कहा, “हमने पहले कभी ऐसा कुछ नहीं देखा। हमें विश्वास है कि बड़े शार्क में से एक ने इस दो सिर वाले शार्क बच्चे को जन्म दिया होगा। हमने इंडियन काउंसिल फॉर एग्रीकल्चरल रिसर्च - सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट (ICAR-CMFRI), मुंबई के शोधकर्ताओं के साथ चित्र साझा किए।"

देश में पहली बार मिली है दो सिर वाली शार्क
नितिन का कहना है कि जब उसने इस शार्क को पकड़ा तो वह जिन्दा थी और उसने उसे दुर्लभ समझते हुए समुद्र में वापस छोड़ दिया। सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों ने बताया कि दो सिर वाली बेबी शार्क मिलने का देश में यह पहला मामला है। इससे पहले आज तक भारत में इस तरह की शार्क नहीं देखी गई है। कुछ साल पहले मैक्सिको के शोधकर्ताओं ने दो सिर वाली शार्क की खोज की थी। साल 2016 के बाद ये ऐसी दूसरी घटना है।

भ्रूण की खराबी के कारण ऐसा होने की संभावना
डॉक्टर्स बताते हैं कि इस दुर्लभ घटना को डिसेफली कहा जाता है और कई अन्य जानवरों की प्रजातियों में इस विसंगति को देखा जा सकता है। यह भ्रूण की खराबी के कारण हो सकता है। शार्क मछली धरती पर सबसे ज्यादा जीने वाले जीवों में से एक है। ये लगभग 150 साल तक भी जिंदा रह सकती है।

From around the web