मुंहबोला मामा ही निकला 7 साल की बच्ची की हत्या का आरोपी, दुष्कर्म के दौरान पकड़े जाने के डर से गला घोंटकर कर दी थी हत्या

 
  • खुशी के लापता होने का मामला 13 सितंबर का है, जब वह आंगन में खेलते समय अचानक ही लापता हो गई थी
  • बच्ची की चीख-पुकार से पकड़े जाने के डर से उसने बच्ची की किडनैपिंग के एक घंटे बाद ही हत्या कर दी थी।

अहमदाबाद के गोता हाउसिंग इलाके से तीन दिन पहले लापता हुई 7 साल की खुशी राठौड़ नाम की बच्ची का शव आज खेत से मिला था। बच्ची का शव मिलने के कुछ ही घंटों में पुलिस ने आरोपी को दबोच लिया। बच्ची की हत्या का आरोपी उसका पड़ोसी और मुंहबोला मामा ही निकला। आरोपी ने बताया कि रेप के दौरान उसकी चीख-पुकार से पकड़े जाने के डर से उसने खुशी की हत्या कर दी थी।

लोडिंग ऑटो में बिठाकर ले गया था
खुशी 13 सितंबर को दोपहर में घर के आंगन में खेल रही थी। इसी दौरान आरोपी भीखू उर्फ भावेश उसके पास आया और चॉकलेट दिलाने की बात कही। बच्ची उसे मामा कहती थी, इसलिए उसके साथ चली गई। भीखू उसे लोडिंग ऑटो में बिठाकर एसपी रिंग रोड के टोलनाके के पास खेत में ले गया था। यहां उसने बच्ची से दुष्कर्म की कोशिश की। इसी दौरान बच्ची की चीख-पुकार पर पकड़े जाने के डर से उसका गला घोंट दिया और शव को खेत किनारे फेंक दिया।

7 साल की खुशी राठौड़।

7 साल की खुशी राठौड़।

रात भर लाउड स्पीकर से पुलिस खोजती रही
श्रमिक परिवार की बेटी खुशी के लापता होने का मामला 13 सितंबर का है, जब वह आंगन में खेलते समय अचानक ही लापता हो गई थी। घटना की गंभीरता को ध्यान में देखते हुए सोला पुलिस ने शहर भर में रात भर बच्ची की तलाश की थी। इसके लिए लाउडस्पीकर का भी उपयोग किया गया था। लेकिन खुशी के बारे में कोई जानकारी नहीं मिलने पर अपहरण का मामला दर्ज किया गया था।

क्राइम ब्रांच ने हिरासत में लिया था
मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच की टीम ने आज भीखू को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की। क्राइम ब्रांच को जानकारी मिली थी कि तीन दिन पहले आखिरी बार बच्ची को भीखू के साथ देखा गया था। बता दें, एसपी रिंग रोड के टोल नाके के पास खेत से बदबू आने पर शव होने का खुलासा हुआ था। बच्ची की पहचान उसके कपड़ों से ही हो गई थी। क्योंकि बच्ची के लापता होने के बाद उसका हुलिया और फोटो पुलिस के पास मौजूद थी।

From around the web