एकबार फिर कालीन भैया के रोल में नजर आएंगे पंकज त्रिपाठी, अपने किरदार को मोगेम्बो, शाकाल और गब्बर का 2.0 वर्जन बताया.

 

अभिनेता पंकज त्रिपाठी हाल ही में फिल्म 'गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल' में कूल डैडी का रोल निभाते नजर आए थे। अब वे वेब सीरीज 'मिर्जापुर' के दूसरे सीजन में एकबार फिर कालीन भैया के अपने लोकप्रिय किरदार को निभाते नजर आएंगे। इस सीरीज में वे एक खतरनाक माफिया के किरदार को निभाते नजर आ रहे हैं।

त्रिपाठी बताते हैं, 'जब हम छोटे थे तो एक खलनायक का विचार सीमित था। यह जाहिर बात है फिल्म की कहानी पर निर्भर होता है ‍कि कैसे कही जाए, लेकिन खलनायक का किरदार उस वक्त बेहद अहम माना जाता था।'

'मिर्जापुर, गुड़गांव और सेक्रेड गेम्स के साथ मैं अधिक गहराई से इंसान के डार्क साइड को एक्स्प्लोर करने में सक्षम हुआ हूं। मैं नकारात्मक पात्रों को बुद्धिमानी से चुनता हूं। उनमें से कोई भी समान नहीं होना चाहिए और हर किरदार दूसरे से अलग होना चाहिए। इनमे से प्रत्येक की प्रेरणा एक-दूसरे से अलग होती है।'

लेखक अद्धुत नकारात्मक चरित्र लिख रहे हैं

उन्होंने आगे कहा, 'कालीन भैया अपनी ताकत के नशे में चूर है। जो वो कमांड करता है, इसलिए वो अपने आत्म-मूल्य की रक्षा करने के लिए काम करता है। मुझे खुशी है कि लेखक अद्भुत नकारात्मक चरित्र लिख रहे हैं, जो एक हास्‍य पात्र से अधिक काम करते हुए नज़र आ रहे हैं।'

'मजबूत बैकस्‍टोरी वाली कहानियां, करैक्टर ग्राफ जो परिभाषित करता है कि आदमी इस तरीके का क्यों हैं। कालीन सीधे तौर पर खलनायक नहीं दिखता है। क्योंकि आप आदमी के कई पहलुओं से परिचित हैं। ये पारंपरिक खलनायक किरदार नहीं हैं, लेकिन मुझे खुशी है कि ये किरदार मोगेम्बो, शाकाल और गब्बर जैसे किरदारों का 2.0 वर्जन है।'

From around the web